मदरसे से हथियार बरामद होने के बाद पूरी यूपी के मदरसों पर सरकार की पैनी नज़र, यह है आगे का प्लान

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश में अब मदरसों पर सरकार की खास नजर होगी, मदरसों से संबंधित सभी डीटेल सरकार के पास मौजूद होगी और इन पर निगरानी भी रखी जाएगी,सरकार ने यह निर्णय बिजनौर के एक मदरसे से हथियार बरामद होने के बाद लिया है।

Also Read : कावंड़ यात्रा और ईद उल अज़हा को लेकर CM योगी ने प्रशासन को दिया यह आदेश, अलर्ट हुआ पूरा प्रदेश


हथियारों की बरामदगी के बाद मदरसों की गुणवत्ता पर सवाल उठ रहे थे. यहां तक की कुछ लोगों ने ऐसे मदरसों को बंद तक करने की अपील की थी. लेकिन अब सरकार ने रास्ता निकालते हुए मदरसों की मॉनिटरिंग का फैसला किया है।

मदरसों की निगरानी के संबंध में राज्य मंत्री मोहसिन रजा ने कहा कि हम हमेशा से ही मदरसों की गुणवत्ता पर काम करते रहे हैं. सरकार की कोशिश है कि मदरसे में पढ़ने वाले बच्चे भी आईएएस, डॉक्टर, इंजीनियर बन सकें. इसके लिए हम लगातार इस तरफ ध्यान दे रहे हैं. मदरसों में एनसीईआरटी की किताबें लागू करने के साथ ही सभी आधुनिक सुविधाएं वहां पर उपलब्‍ध करवाने का काम सरकार कर रही है।

सूचना के अनुसार सरकार ने प्रदेश में मौजूद सभी मदरसों की जानकारी जिला अल्पसंख्यक अधिकारियों से मांगी है. अधिकारियों को निजी और सरकारी सभी मदरसों की पूर्ण जानकारी देनी होगी. इस दौरान मोहसिन ने कहा कि सूबे में कई मदरसे ऐसे हैं जो मानकों को पूरा नहीं करते हैं और इनका बंद होना जरूरी है. सरकार ऐसे मदरसों पर पूर्ण तौर पर अंकुश लगाएगी।

Also Read : इलाहाबाद हाईकोर्ट के बाहर बंदूक की नोक पर युवक-युवती का अपहरण, जांच में जुटी पुलिस


वहीं सरकार के ‌इस फैसले के खिलाफ मदरसा संचालक आ गए हैं. उनका कहना है कि बिजनौर में जो हुआ वह गलत था और ऐसे में कार्रवाई होनी जरूरी है. लेकिन एक मदरसे के नाम पर सभी मदरसों को निशाना बनाना गलत है।

मदरसा संचालक मौलाना हारून ने कहा कि सरकार की नजर में सिर्फ मदरसे ही खटकते हैं इसलिए घूमफिर कर मदरसों को ही एजेंडा बनाया जाता है. जबकि सरकार को चाहिए कि मदरसों के हालात बेहतर करने के जो वादे किए गए थे उन्हें पूरा किया जाए।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments