Sambhal Loksabha : समाजवादी के गढ़ में क्या फिर से खिलेगा कमल ?

समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाने वाले संभल पर 2019 लोकसभा चुनाव में सभी की नजर होगी. मुस्लिम बहुल इलाका होने के बावजूद 2014 के चुनाव में इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी, जिसे समाजवादी पार्टी के लिए एक बड़ा झटका माना गया था. यहां से बीजेपी के सत्यपाल सैनी चुनाव जीतकर आए. इस सीट से समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव और दिग्गज नेता प्रोफेसर रामगोपाल यादव भी सांसद चुने जा चुके हैं. हालाँकि इसबार गठबंधन से यहाँ के पुराने, कर्मठ, जुझारू, तुर्क बिरादरी से आने वाले स्थानीय कद्दावर नेता डॉ. शफ़ीक़ ऊर रहमान बर्क़ मैदान में हैं ! जिनका मुख्य मुक़ाबला इस बार बीजेपी के परमेश्वर लाल सैनी से होगा ! मगर स्थानीय सर्वे के आधार पर डॉ. शफ़ीक़ ऊर रहमान बर्क़ के भारी वोटों से जीतने की अटकलें हैं | 

संभल लोकसभा सीट का इतिहास

सामान्य सीट संभल 1977 में अस्तित्व में आई, इमरजेंसी के बाद देश में पहली बार चुनाव हो रहे थे यहां से चरण सिंह की पार्टी ने जीत दर्ज की. उसके बाद 1980, 1984 में लगातार कांग्रेस फिर 1989, 1991 में जनता दल ने ये सीट जीती. 1996 में बाहुबली डीपी यादव ने बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर इस सीट पर कब्जा किया.

1998 में ये सीट वीआईपी सीटों की गिनती में आ गई, तत्कालीन समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने 1998, 1999 में यहां से चुनाव जीता. 2004 में उनके भाई प्रोफेसर रामगोपाल यादव यहां से सांसद चुने गए. लेकिन 2009 में ये सीट बहुजन समाज पार्टी के खाते में गई. 

संभल लोकसभा सीट का समीकरण

रामपुर, अमरोहा और मुरादाबाद जैसी सीटों से सटी हुई संभल लोकसभा में भी मुस्लिम वोटरों का वर्चस्व है. यही कारण रहा कि भारतीय जनता पार्टी के लिए ये सीट मुश्किल मानी जाती थी. लेकिन 2014 में बीजेपी ने यहां फतह हासिल की.

संभल में कुल 16 लाख से अधिक वोटर हैं, इनमें करीब नौ लाख पुरुष और 7 लाख महिला हैं. 2014 में यहां 62.4 फीसदी मतदान हुआ था, इनमें से 7658 वोट NOTA को गए थे. यहां करीब 40 फीसदी हिंदू आबादी और 50 फीसदी से अधिक मुस्लिम आबादी है.

संभल लोकसभा के अंतर्गत कुल 5 विधानसभा सीटें आती हैं. इनमें कुन्दरकी, बिलारी, चंदौसी, असमोली और संभल शामिल हैं. 2017 के विधानसभा चुनाव में सिर्फ चंदौसी विधानसभा ही भारतीय जनता पार्टी के खाते में गई थी, जबकि अन्य सभी सीटों पर समाजवादी पार्टी का कब्जा रहा.

चंद वोटों से जीते थे बीजेपी के सत्यपाल

मुस्लिम बहुल इस सीट पर 2014 में मुकाबला काफी कांटेदार रहा था. भारतीय जनता पार्टी के सत्यपाल सैनी और समाजवादी पार्टी के शफीक उर रहमान बर्क के बीच जीत-हार में सिर्फ 5000 वोटों का अंतर था. लोकसभा में इतने अंतर को मामूली ही माना जाता है. वहीं बहुजन समाज पार्टी के अकील उर रहमान खान तीसरे नंबर पर रहे थे. राजनीतिक पंडितों का मानना था कि सपा और बसपा में यहां मुस्लिम वोट बंट गए थे यही कारण रहा कि बीजेपी को फायदा मिला और वह जीत गई थी.

2014 लोकसभा चुनाव के नतीजे

सत्यपाल सैनी, भारतीय जनता पार्टी, कुल वोट मिले 360,242, 34.1%

शफीक उर रहमान बर्क, समाजवादी पार्टी, कुल वोट मिले 355,068, 33.6%

अकील उर रहमान खान, बहुजन समाज पार्टी, कुल वोट मिले 252,640, 23.9%

Facebook Comments