रामपुर पुलिस ने आजम खान और उनके बेटे को भेजा नोटिस, कहा- सरकारी सुरक्षा साथ लेकर चलें

Rampur Police: रामपुर पुलिस ने आजम खान और उनके बेटे अबदुल्ला आजम खान के घर एक नोटिस चस्पा किया है जिसमें लिखा है कि जो सुरक्षा उन्हें मुहैया कराई गई है उसे साथ लेकर चलें. दरअसल दोनों ही नेता पिता-पुत्र उस सुरक्षा को अपने साथ लेकर नहीं चल रहे हैं जो यूपी सरकार ने उन्हें उपलब्ध कराई है.

Also Read : शामली में विदेशियों की गिरफ्तारी: आखिर मदरसे के छात्रों ने थाईलैंड में कैसे बना लिया आलीशान मकान?


सुरक्षा को साथ लेकर चलना ही उचित

नोटिस में SP रामपुर की ओर से विधायक अबदुल्ला आजम खान को संबोधित करते हुए लिखा है,” मेरे संज्ञान में आया है कि आपको जो राजकीय सुरक्षा व्यवस्था प्रदान की गई है आप उसे लेकर भ्रमण नहीं कर रहे हैं जो सुरक्षा की दृष्टि से उचित नहीं है. दी गई सुरक्षा आपके पद और जीवन भय को देखते हुए दी गई है इसलिए सुरक्षा को लेकर ही चलना उचित है. आपको परामर्श है कि आप सुरक्षा के साथ ही चलें ताकि कोई अप्रिय घटना घटित न होने पाए”.

SP रामपुर अजयपाल शर्मा ने कहा,”आजम खान को वाई श्रेणी की सरक्षा मिली हुई है. एक गारद उनके आवास पर तैनात रहती है और दो सुरक्षाकर्मी उनके साथ रहते हैं. पिछले कुछ दिनों से वे अपने साथ सुरक्षाकर्मियों को नहीं ले जा रहे हैं. इसी संबंध में उनको अवगत कराया गया है. हमारी जिम्मेदारी है उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना और इसके लिए हम प्रयास कर रहे हैं”.


जौहर यूनिवर्सिटी को लेकर फंसते जा रहे आजम

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता और रामपुर के सांसद आजम खान इस यूनिवर्सिटी को अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि मानते हैं. लेकिन अब इसी यूनिवर्सिटी को लेकर आजम खान लगातार फंसते नजर आ रहे हैं. सबसे पहला विवाद दो शेरों की मूर्तियों का है जो रामपुर क्लब से चोरी हुई थीं. नवाबी दौर की ये दोनों मूर्तियां जौहर यूनिवर्सिटी में पाई गईं. दूसरा विवाद मदरसा आलिया की किताबों का है. 1774 के इस मदरसे को आजम खान के ट्रस्ट ने लीज पर ले रखा है. यहां करीब 9 हजार प्राचीन किताबें थीं. अब यहां स्कूल चलता है जिसे आजम खान का ट्रस्ट चलाता है. आरोप है कि किताबें और फर्नीचर जौहर यूनिवर्सिटी पहुंचा दिया गया.

तीसरा विवाद जमीन से जुड़ा है. 78 हेक्टेयर में बनी इस भव्य यूनिवर्सिटी की 38 हेक्टेयर जमीन पर विवाद है. आरोप है कि इस जमीन को जबरन किसानों से ले लिया गया. यूनिवर्सिटी के लिए तीन बार सर्किल रेट कम कराए गए. सपा सरकार के दौरान इस यूनिवर्सिटी पर भारी भरकम सरकारी पैसा खर्च किया गया था. आजम खान की अध्यक्षता वाला ट्रस्ट इस यूनिवर्सिटी को चलाता है. इस ट्रस्ट से जुड़ी लोग आजम परिवार के ही हैं.

Also Read : केजरीवाल का ऐलान- दिल्ली में 200 यूनिट तक बिजली बिल माफ, 400 यूनिट तक 50% सब्सिडी, देखिये


आजम के खिलाफ 64 मुकदमे दर्ज

आजम खान के खिलाफ करीब 64 मुकदमे दर्ज हैं जिनमें से कई मुकदमे जमीनों से जुड़े हैं. आजम खान को भूमाफिया घोषित कर दिया गया है और उन पर शिकंजा कसता जा रहा है. जौहर यूनिवर्सिटी की जमीनों के अलावा आजम खान पर सिंचाई विभाग की जमीन पर भी कब्जे का आरोप है. रामपुर में आजम खान ने एक भव्य रिजॉर्ट भी बनवाया है जिसको हमसफर रिजॉर्ट के नाम से जाना जाता है. आरोप है कि इस रिजॉर्ट के लिए सिंचाई विभाग की जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया गया.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments