अस्पताल से लौटकर मुलायम सिंह यादव ने दिया ये बड़ा बयान, भाजपाइयों में मची खलबली

सपा संरक्षक और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव अस्पताल से छुट्टी होकर घर आ गये है. हालांकि अभी उनका शुगर लेबल बढ़ा हुआ है और भी उनके कई रूटीन टेस्ट होने के लिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया था.

मुलायम सिंह ने आज कहा कि प्रदेश में नहीं पुरे देश में गठबंधन पूरी बहुमत की सरकार बनाने जा रहा है, यूपी में महागठबंधन को सबसे ज्यादा सीटें मिलेंगी. उनके इस बयान से सपा बसपा गठबंधन को काफी फायदा मिलेगा. उन्होंने कहा है मेरी यह बात आपको माननी चाहिए.

मुलायम सिंह यादव उत्तर प्रदेश के ऐसे धुरंधर नेता के रूप में जाने जाते हैं, जिन्होंने साधारण परिवार से निकलकर प्रदेश और देश की सियासत में एक बड़ी पहचान बनाई. वह तीन बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और एक बार देश के रक्षा मंत्री के रूप में सेवा दी. 22 नवम्बर, 1939 को इटावा जिले के छोटे से गांव सैफई में पैदा होने वाले मुलायम ने शुरुआती दिनों में शिक्षण कार्य किया. लेकिन लोहिया और उनके साथ के लोगों के संपर्क में आने के बाद सियासत की ओर रुख किया.

लोकदल के विधायक के रूप में सियासत में कदम रखने वाले मुलायम ने 1992 में समाजवादी पार्टी की नींव रखी. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की जड़ें मजबूत करने में उनका अमूल्य योगदान माना जाता है. इस पार्टी ने प्रदेश में चार बार सरकार बनाई. तीन बार वह खुद मुख्यमंत्री रहे जबकि चौथी बार 2012 में उनके पुत्र अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सरकार बनी.

अखिलेश यादव के कार्यकाल में उनके परिवार मेें विरासत को लेकर कडा़ संघर्ष शुरू हो गया. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष की हैसियत से एक बड़ी बैठक बुलाकर उनके पुत्र अखिलेश यादव ने खुद को राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया और मुलायम सिंह यादव को पार्टी का संरक्षक बना दिया गया.

Facebook Comments