चमड़ा कारोबारियों पर मेहरबान हुई योगी सरकार, टेनरियों को खोलने का दिया आदेश

उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर को चमड़े के उत्पादों के लिए देश दुनिया में जाना जाता है. यहां के बने चमड़े के जूते, घोड़े की जीन और अन्य सामानों की विदेशों में बहुत ज्यादा मांग है. बीते कुछ महीनों से यहां के चमड़ा उद्योग पर संकट के बादल छा गए थे. मगर अब योगी सरकार का नया फैसला उनके लिए राहत भरी खबर लेकर आया है.

Also Read : कावंड़ यात्रा और ईद उल अज़हा को लेकर CM योगी ने प्रशासन को दिया यह आदेश, अलर्ट हुआ पूरा प्रदेश


योगी सरकार ने बीते साल नवंबर माह से बंद टेनरियों को खोलने का आदेश जारी कर दिया. आदेश के साथ कुछ शर्तें भी लगा दी गई हैं. शर्त के तहत उन्हें राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण (एनजीटी) द्वारा निर्धारित मापदंडों का पालन करना पड़ेगा. सरकार ने कानपुर के जाजमऊ में अलग से वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट स्थापित करने का निर्णय लिया है, ताकि चमड़े की फैक्ट्रियों के वेस्ट को सीधे गंगा नदी में गिरने से रोका जा सके.

kanpur leather udyog

कानपुर के जिलाधिकारी विजय विश्वास पंत के अनुसार, प्रदेश सरकार ने चमड़े की फैक्ट्रियों के वेस्ट को सीधे गंगा नदी में गिरने से रोकने के लिए 617 करोड़ रुपये की परियोजना को मंजूरी दी है. उन्होंने कहा कि कुल स्वीकृत राशि में से 480 करोड़ रुपये का उपयोग वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट स्थापित करने में, वहीं शेष राशि का उपयोग प्लांट के रख-रखाव में किया जाएगा.

Also Read : CM रुपाणी ने बताया गुजरात में तेज़ी से धर्मपरिवर्तन कर रहे हैं हिन्दू, 94 प्रतिशत आवेदन हुए प्राप्त, पढ़ें पूरी खबर


बता दें कि कुंभ मेले की शुरुआत से पहले नवंबर 2018 से ही कानपुर की टेनरियां पूरी तरह से बंद हैं. इतने लंबे समय से बंदी का असर ये हुआ है कि विदेशों से भारत को मिलने वाला आर्डर बंग्लादेश, चीन और पाकिस्तान जा चुका है. कारोबारी बर्बादी की कगार पर आ गए हैं. फिर भी ये फैसला चमड़ा कारोबारियों के लिए राहत भरा है.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments