नोएडा में एम्प्लॉयरों को रूप जाल में फंसाकर रूपये ऐंठती थी ये महिला, जानें फिर क्या हुआ ?

ग्रेटर नोएडा। एक महिला पहले अपनी नौकरी के लिए लोगों से मिलती थी। उनका मोबाइल नंबर ले लेती थी। बाद में फोन और ह्वाट्सएप चैट कर अपनी लुभावनी तस्वीर शेयर करती थी। उसके बाद हनी ट्रैप में फंसाकर अवैध रूप से मोटी रकम वसूल करती थी।

दादरी थाने की पुलिस और स्टार-02 की टीम ने इस गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गिरोह की महिला सदस्य और पीएसी के हेड कांस्टेबल समेत चार लोगों को दादरी क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों के पास से 2,76,550 रुपये की नकदी, दरोगा की वर्दी, एक कार बरामद की गई है। 

सूरजपुर स्थित पुलिस मुख्यालय में बुधवार को हुई प्रेस कान्फ्रेंस में एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि सीमा नाम की महिला अपने साथी अरुण के साथ लोगों से नौकरी के लिए मिलती थी। उसके बाद महिला उसे अपने जाल में फंसाने की शुरुआत करती थी। वह इंपलायर से फोन और ह्वाट्सएप पर चैट करती थी। वह ह्वाट्सएप पर अपनी लुभावनी फोटो भेजती थी। बात आगे बढ़ने पर महिला उसे अपने घर बुलाती थी। अरुण महिला के साथ उस व्यक्ति का अश्लील वीडियो बनाता था। उसके बाद ये लोग ब्लैकमेल शुरू करते थे। ये लोग पुलिस की धमकी देकर पुलिस को सूचना भी देते थे।

इसमें गौतमबुद्ध नगर में 49वीं वाहिनी पीएसी में तैनात हेड कांस्टेबल विजय सिंह चीमा दरोगा बनकर इन लोगों को धमकाता था और कासना थाना चलने को कहना था। उन्होंने बताया कि अभियुक्त पुष्पेन्द्र पुलिस व पीड़ितों के बीच मध्यस्थता कराकर पैसों का लेन-देन कराता था। 

जांच कर रही दादरी पुलिस

एसएसपी ने बताया कि इस गिरोह की ठगी का शिकार हुए कई पीड़ितों ने दादरी थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। मामले की जांच कर रही दादरी पुलिस और स्टार-2 की टीम ने एक इनपुट के आधार पर महिला और पीएसी के हेड कांस्टेबल समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि आरोपियों के पास से पीड़ितों से वसूले गए 02 लाख 76 हजार 550 रूपये भी बरामद किए गए हैं।

पकड़े गए लोगों में बुलंदशर निवासी सीमा सिरोही पत्नी राजीव, अरुण कुमार पुत्र हरगोविन्द, अमरोहा निवासी विजय सिंह चीमा (हेड कांस्टेबल 49वीं वाहिनी पीएसी डी कम्पनी, गौतमबुद्धनगर) पुत्र राम स्वरूप और गौतमबुद्ध नगर के एच्छर गांव निवासी पुष्पेन्द्र पुत्र जगत नारायण शामिल है। इनके पास से 2,76,550 रुपये की नकदी, एक उपनिरीक्षक की वर्दी, पी-कैप, एक उप-निरीक्षक की आईडी और एक सैन्ट्रो कार आदि बरामद किया गया है। 

Facebook Comments