पूर्व डीजीपी बोले, खराब थी VVPAT मशीन, जिसे वोट दिया नहीं आया उसका नाम, मचा विपक्षी दलों में हडकम्प

असम के पूर्व डीजीपी हरेकृष्ण डेका ने वीवीपैट मशीन में खराबी का मुद्दा उठाया है. पूर्व डीजीपी ने कहा है कि गुवाहाटी के पोलिंग बूथ पर वीवीपैट मशीन में खराबी थी. वीवीपैट पर मतदान करने के बाद उस शख्स का नाम डिस्प्ले नहीं हुआ जिसे उन्होंने वोट दिया था. पूर्व डीजीपी का कहना था कि उन्होंने इसकी प्रारंभिक शिकायत भी दर्ज नहीं कराई. क्योंकि उन्हें डर था कि अगर शिकायत गलत पाई गई तो उनके खिलाफ एक्शन लिया जा सकता है.

‘वीवीपैट में गलत नाम दिखा’

हरेकृष्ण डेका ने मंगलवार को कहा, “गुवाहाटी में लचित नगर के एल. पी. स्कूल में मेरा पोलिंग बूथ था और मतदान करने वाला मैं पहला शख्स था. न जाने क्यों मतदान में थोड़ी देरी हुई. जब मैंने वोट दिया तो वीवीपैट ने उस शख्स का नाम नहीं दिखाया जिसके सामने मैंने बटन दबाई थी. मुझे वहां पर किसी और शख्स का नाम दिखा.”

उन्होंने कहा कि ‘मैंने बूथ पर मौजूद मतदान अधिकारियों को इसके बारे में बताया. इस पर उन्होंने मुझसे कहा कि मैं इसकी शिकायत दर्ज करा सकता हूं. मतदान अधिकारियों में मुझे बताया कि वो मुझे एक रसीद देंगे जिसके लिए मुझे 2 रुपये देने होंगे. इसके बाद मामले की जांच की जाएगी.’

6 महीने की सजा का प्रावधान

पूर्व डीजीपी के मुताबिक, मतदान अधिकारियों ने उनसे ये भी कहा कि अगर उनकी शिकायत गलत पाई गई तो उन्हें 6 महीने की सजा हो सकती है. उन्होंने आगे कहा कि मैं कोई रिस्क नहीं लेना चाहता था. क्योंकि मुझे नहीं पता कि इसकी कैसे जांच की जाती.

असम में मतदान समाप्त

असम में लोकसभा की कुल 14 सीटें हैं. सोमवार को यहां पर तीसरे और अंतिम चरण के लिए 4 सीटों पर मतदान हुआ. अब देखना ये होगा कि असम की 14 सीटों पर कौन सी पार्टी अपना दबदबा कायम कर पाती है.

Facebook Comments