Aircel Maxis Case : पी. चिदंबरम और बेटे कार्ति को मिली अग्रिम जमानत, देखिये

P. Chidambaram: एयरसेल मैक्सिस केस में पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम(P. Chidambaram) और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम(Karti Chidambaram) को अग्रिम जमानत मिल गई है. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) की विशेष कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि गिरफ्तारी की स्थिति में चिदंबरम(P. Chidambaram) और कार्ति को एक लाख रुपये के निजी मुचलके पर तुरंत रिहा किया जाएगा. हालांकि, कोर्ट ने चिदंबरम और कार्ति को गवाहों व सबूतों के साथ छेड़छाड़ न करने और जांच में सहयोग करने का निर्देश दिया है.

P Chidambaram and his son Karti get anticipatory bail

Also Read: डीएल-आरसी नहीं दिखाने पर तत्काल चालान नहीं काट सकती ट्रैफिक पुलिस, जानिए कानून


दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट में हुई थी सुनवाई!

एयरसेल-मैक्सिस डील केस में प्रवर्तन निदेशालय (ED) की तरफ से पी. चिदंबरम की हिरासत मांगी गई थी. इसी केस में सोमवार को भी दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई हुई थी, इस दौरान ED ने चिदंबरम को अंतरिम जमानत देने का विरोध किया था.

कोर्ट के आज के आदेश के बाद ED और CBI दोनों ही एजेंसी पी चिदंबरम या कार्ति चिदंबरम को एयरसेल-मैक्सिस केस में गिरफ्तार नहीं कर पाएंगी, लेकिन 3:30 बजे के बाद INX मीडिया केस में पी चिदंबरम की पेशी के दौरान ED इस मामले में चिदंबरम की कस्टडी की मांग कर सकती है. कोर्ट ने पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को यह जमानत कुछ शर्तों के साथ दी है जिसमें जांच एजेंसी के साथ जांच में सहयोग करना भी शामिल है.

P Chidambaram and his son Karti get anticipatory bail

चिदंबरम सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे : SC!

कोर्ट ने पी चिदंबरम और कार्ति चिदंबरम को जमानत देते वक्त अपने आदेश में कहा है कि वह सबूतों के साथ इस मामले में छेड़छाड़ नहीं करेंगे. ये केस भी फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) से जुड़ा हुआ है. साल 2006 में एयरसेल-मैक्सिस डील को पी. चिदंबरम ने बतौर वित्त मंत्री मंजूरी दी थी. पी. चिदंबरम पर आरोप है कि उनके पास 600 करोड़ रुपए तक के प्रोजेक्ट प्रपोजल्स को ही मंजूरी देने का अधिकार था.


Also Read: हरियाणा में ट्रैक्टर ड्राइवर का कटा 59 हजार का चालान, जानिए क्या है पूरा मामला

लेकिन बावजूद इसके बड़े प्रोजेक्ट को मंजूरी देने के लिए उन्हें आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति से मंजूरी लेनी जरूरी थी. एयरसेल-मैक्सिस डील केस 3500 करोड़ की FDI की मंजूरी का था. इसके बावजूद एयरसेल-मैक्सिस FDI मामले में चिदंबरम ने कैबिनेट कमेटी ऑन इकोनॉमिक अफेयर्स की मंजूरी के बिना मंजूरी दी गई.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments