डोनाल्ड ट्रंप के ‘हिंदू-मुसलमान’ वाले बयान पर भड़क उठे ओवैसी, नरेंद्र मोदी से माँगा जवाब, देखिये

Owaisi: जम्मू-कश्मीर को लेकर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के हिंदू-मुसलमान’ वाले बयान पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के चीफ और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर हमला बोला है. ओवैसी ने पूछा है कि क्या भारत में हिंदू-मुसलमान एक समस्या है? अगर नहीं तो सरकार चुप क्यों है?.

Also Read: Imran Khan पर बरसीं पूर्व पत्नी Reham Khan, Modi को खुश करने के लिए किया कश्मीर का सौदा


असदुद्दीन ओवैसी का ट्वीट

Owaisi: असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करके कहा है, ‘’क्या भारत में हिंदू-मुसलमान समस्या है? अगर नहीं तो डोनाल्ड ट्रंप के बयान पर सरकार चुप क्यों है? स्पष्ट नहीं करके क्या हम स्वीकार कर रहे हैं कि हमें दोनों समुदायों से कोई समस्या है?’’.

दरअसल, डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्य़स्थता की इच्छा जताई है. मध्यस्थता की पेशकश के बीच उन्होंने विवादित बयान देते हुए कहा, ‘‘कश्मीर बेहद जटिल जगह है. यहां हिंदू हैं और मुसलमान भी और मैं नहीं कहूंगा कि उनके बीच काफी मेलजोल है. मध्यस्थता के लिए जो भी बेहतर हो सकेगा, मैं वो करूंगा’’.


क्या अमेरिका कोई चौधरी है : ओवैसी

इससे पहले कल असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और डोनाल्ड ट्रंप के बीच फोन पर कश्मीर मुद्दे को लेकर हुई बातचीत पर भी सवाल खड़े किए थे. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा था, ‘’हमारे PM ने फोन पर कश्मीर को लेकर डोनाल्ड ट्रंप से बातचीत की. ट्रंप हमारे लिए क्या है ? क्या वह पूरी दुनिया के पुलिसकर्मी हैं या वह कोई चौधरी हैं ?”  उन्होंने कहा, ‘’कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा है और किसी तीसरे पक्ष को हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं है’’.

Also Read : अमित शाह बोले “तीन तलाक़ क़ुरआन का हिस्सा होता तो अन्य मुस्लिम देश इसे क्यों हटाते?,देखिये


गौरतलब है कि 19 अगस्त को PM मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप से फोन पर बातचीत कर उनको पाकिस्तान की तरफ से दिए जा रहे भारत-विरोधी उग्र बयानों से अवगत कराया था. PM मोदी ने क्षेत्र के कुछ नेताओं द्वारा दिए जा रहे भारत विरोधी उग्र और हिंसा भड़काने वाले बयान का जिक्र किया और कहा, ‘’यह शांति के लिए अनुकूल नहीं है.’’ आर्टिकल 370 खत्म होने के बाद से पाकिस्तानी नेतृत्व कश्मीर मसले को लेकर भारत के विरोध में जहर उगल रहा है.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments