टॉपर और गोल्ड मेडलिस्ट निश्त फातिमा को बुर्का पहनने पर कॉलेज ने नही लेने दी डिग्री, क्योंकि..?

नई दिल्ली: रांची के मारवाड़ी कॉलेज की ग्रेजुएशन सेरेमनी में डिग्री आई ओवर ऑल बेस्ट ग्रेजुएट निशत फातिमा डिग्री नही ले सकी,क्योंकि कॉलेज की तरफ से उसे डिग्री लेने से रोक दिया गया।

पिछले कई दिनों से कॉलेजों में ड्रेस को लेकर गहमागहमी मची हुई है, कई कॉलेज में कपडों के लेकर अजीबोगरीब नियम बनाए जा रहे हैं. जहां हैदराबाद के गर्ल्स कॉलेज ने लड़कियों को सूट पहनने पर अजीब फरमान सुना दिया है।


Also Read : साक्षी मिश्रा का छलका दर्द, बोलीं- शादी के बाद से ही बिता रहे भगोड़े जैसी जिंदगी

निश्त को कार्यक्रम में डिग्री लेने से रोक दिया गया. निशत ने सत्र 2011-14 में मारवाड़ी कॉलेज से ग्रेजुएशन की थी. निशत को नहीं मालूम था कि बुर्का पहनकर डिग्री लेने आना इतना तकलीफदेह होगा. निशत ने ग्रेजुएशन में बीएससी गणित ऑनर्स में 93 फीसदी अंक हासिल किए थे. उन्हें कॉलेज में सभी विषयों में उसे सबसे अधिक अंक मिले थे।

बता दें, निशत कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बुर्का पहन कर आई थी. समारोह में गोल्ड मेडल के लिए उसका नाम पुकारा गया. उसे सबसे पहले मेडल लेना था।

वहीं नाम बुलाने के साथ ही मंच से घोषणा कर दी गई कि वह कॉलेज द्वारा तय ड्रेस कोड में नहीं है, इस कारण उसे समारोह में डिग्री नहीं दी जाएगी. इसके बाद वह मंच पर नहीं चढ़ी. जिसके बाद दूसरे टॉपर्स को मेडल और डिग्री देने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई।

nishat fatima refused to award degree

ड्रेस कोड तय होने के बावजूद बुर्के में आने पे निशत के पिता मुहम्मद इकरामुल हक ने कहा कि बुर्का हमारी परंपरा में शामिल है. बता दें, टॉपर्स को राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और रांची विवि के कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडेय ने डिग्री प्रदान की।

Also Read : अयोध्या: सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्वाणी अखाड़ा ने मामले को दिया नया मोड़, मुस्लिम पक्षों में हुआ दो फाड़..

ग्रेजुएशन सेरेमनी को लेकर कॉलेज की ओर से ड्रेस कोड तय किया गया था. जिसमें छात्र को सफेद रंग का कुर्ता पायजामा और छात्राओं को सलवार-सूट, दुपट्टा या साड़ी ब्लाउज में आना था. इसके लिए कॉलेज ने पहले ही नोटिस जारी कर दिया गया था

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments