श्रीसंत का सात साल का बैन हुआ खत्म, फिर लौट सकते हैं क्रिकेट टीम में

2007 टी-20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय क्रिकेट टीम का हिस्सा रहे शांताकुमार श्रीसंत का बैन समाप्त हो गया है। शांताकुमार श्रीसंत को आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में बीसीसीआई ने क्रिकेट खेलने से बैन कर दिया था। बैन खत्म होने पर श्रीसंत ने कहा है कि, मुझे बुलाओ, मैं आऊंगा और कहीं भी क्रिकेट खेलूंगा।

श्रीसंत ने क्रिकेट में वापसी करते हुए कहा है कि, मैंने ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और श्रीलंका के एजेंटों से बात कर रहा हूं और मैं इन देशों में क्लब स्तरीय क्रिकेट खेलना चाहता हूं। मेरा क्रिकेट को लेकर दो लक्ष्य है, पहला  2023 वर्ल्ड कप में अपने देश का प्रतिनिधित्व करना है, और दूसरा लॉर्ड्स में एमसीसी और वर्ल्ड इलेवन के बीच होने वाले मैच में खेलना।


2013 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में बीसीसीआई ने श्रीसंत पर आजीवन खेल प्रतिबंध लगा दिया था। लेकिन 2015 में दिल्ली की एक विशेष अदालत ने उन पर लगे सभी आरोपों से उन्हें बरी कर दिया।

बता दें बीसीसीआई द्वारा लगाए गए आजीवन प्रतिबंध को साल 2018 में केरल उच्च न्यायालय ने खत्म कर दिया था। और साथ ही अदालत ने उन के खिलाफ होने वाली सभी कार्यवाही को भी रद्द कर दिया था। लेकिन, हाई कोर्ट की एक खंडपीठ ने प्रतिबंध की सजा को बरकरार रखा था।


अदालत के इस फैसले को श्रीसंत ने सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी थी। लेकिन पिछले साल 2019 में शीर्ष न्यायालय ने उनके अपराध को बरकरार रखते हुए, बीसीसीआई को उनकी सजा कम करने का निर्देश दिया था। जिसके बाद  भारतीय क्रिकेट बोर्ड काउंसिल ने उनकी आजीवन प्रतिबंध की सजा को घटाकर सात साल कर दिया था। जो कि अब समाप्त हो ग‌ई है। 

The Ace EXPRESS से जुड़ने और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

दि ऐस एक्सप्रेस Telegram पर भी उपलब्ध है। जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें@TheAceExpress

Facebook Comments