अमित शाह बोले “तीन तलाक़ क़ुरआन का हिस्सा होता तो अन्य मुस्लिम देश इसे क्यों हटाते”, देखिये ?

नई दिल्ली: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली के कॉन्स्टिट्यूशन क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम में तीन तलाक मामले पर जमकर भाषण देते हुए अन्य राजनीतिक पार्टियों को निशाना बनाया और कड़ी आलोचना करते कहा कि, ‘कुछ राजनीतिक पार्टियों को वोट बैंक की आदत पड़ गई थी. तुष्टिकरण की राजनीति के कारण ही तीन तलाक इतने वर्षों तक चलता रहा. जब हम पूरे समाज की परिकल्पना लेकर चलते हैं तो हमें संवेदनाओं के बारे में विचार करना पड़ता है।


Also Read : संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में चीन ने उठाया कश्मीर का मुद्दा, देखिए अमेरिका,रूस ने क्या कहा ?

amit-shah-in-constitution-club-of-india

केंद्रीय गृहमन्त्री अमित शाह ने कहा कि, ‘कांग्रेस के तुष्टिकरण को समाप्त करने में 56 वर्ष का समय लग गया. यदि तीन तलाक़ कुरान का हिस्सा होता तो दुनिया के मुस्लिम देश इसे क्यों हटाते?’

शाह ने कहा कि ‘मोदी सरकार ने अब मुस्लिम माताओं-बहनों को तीन तलाक से निजात दिलाई है. कई लोग आरोप लगाते हैं कि हमने मुस्लिम समुदाय के विरोध में काम किया. मैं साफ करना चाहता हूं कि तीन तलाक समाप्त होने से मुस्लिम समाज की महिलाओं को समानता का हक़ मिलेगा.’


Also Read : धारा 370 हटाने पर मुस्लिम देशो के संगठन OIC ने बुलाई एमरजेंसी बैठक, जानिए क्या हुआ तय ?

amit-shah-speaking-on-triple-talak

शाह ने आगे कहा कि ट्रिपल तलाक़ जैसी सामाजिक कुप्रथा को समाप्त कर पीएम नरेंद्र मोदी का नाम अब राजा राम मोहन राय, ज्योतिबा फूले, महात्मा गांधी और डॉ. भीमराव आम्बेडकर जैसे समाज सुधारकों की सूची में जुड़ गया है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने एक समाज सुधारक के तौर पर देश से परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण को देश की सियासत से ख़त्म करने का काम किया है।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments