सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को आम्रपाली ग्रुप के CMD और दो निदेशकों को गिरफ्तार करने की अनुमति दी

नई दिल्ली : कुछ समय पहले EOW द्वारा आम्रपाली ड्रीम वैली प्राइवेट लिमिटेड और दो निदेशकों पर खरीदारों के साथ धोखाधड़ी करने के लिए, एक केस रजिस्टर किया गया था, तब कोर्ट ने आमापाली ग्रुप को 200 करोड़ रूपये देने को भी कहा था.

Also Read : जानिए क्या है ‘विशाखा गाइडलाइन’ जिसे सुप्रीम कोर्ट ने धार्मिक संस्थानों में लागू करने से इंकार कर दिया है


सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली पुलिस को आम्रपाली ग्रुप के सीएमडी अनिल शर्मा और कंपनी के दो अन्य निदेशकों को गिरफ्तार करने के लिए अधिकृत किया. इन के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज की गई थी। अदालत ने आम्रपाली सीएमडी और निदेशकों की व्यक्तिगत संपत्तियों की आसक्ति का निर्देश दिया है।

अदालत, घर खरीदारों द्वारा दायर याचिकाओं के एक बैच के साथ काम कर रही है जिन्होंने आम्रपाली ग्रुप मे फ्लैट्स बुक किए है जो की लगभग 42,000 फ्लैट्स हैं। कंपनी घर-खरीदारों के पैसों को किसी और जग़ह इस्तेमाल करने के लिए जिम्मेदार है।

गुरुवार को कोर्ट ने दिल्ली पुलिस के इकनोमिक ओफ्फेंस विंग (EOW) को निदेशक- शिव प्रिय और अजय कुमार- जो की इस केस मे मिले हुए हैं उन्हें गिरफ़्तार करने की इजाज़त दी.जस्टिस अरुण मिश्रा और यू यू ललित ने कहा, “हमने कभी भी किसी एजेंसी को निदेशको को गिरफ्तार करने से नहीं रोका था, जो वर्तमान में यूपी पुलिस के नजरबंद मे एक होटल में रखे गए हैं।”


शीर्ष अदालत द्वारा निर्देशित सीएमडी सहित तीन निदेशक अब तक पुलिस हिरासत में थे। दिल्ली पुलिस को अब यह अनुमति मिल गई है की वो अलग से धोखाधड़ी के केस मे ईओडब्ल्यू विंग के साथ गिरफ़्तार कर के उनसे पूछताछ कर सकते है.

Also Read : मस्जिदों में महिलाओं के नमाज पढ़ने की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने हिन्दू महासभा को लगाई लताड़, देखिए

पुलिस ने कंपनी और उसके दो निदेशकों, अनिल कुमार शर्मा और अमरेश कुमार के खिलाफ 8 फरवरी को मामला दर्ज किया था और उन पर आईपीसी की धारा 406 (आपराधिक विश्वासघात की सजा), 420 (धोखाधड़ी और बेईमानी से संपत्ति की डिलीवरी के लिए प्रेरित) और 120 बी (आपराधिक साजिश की सजा) के तहत आरोप लगाए गए थे।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments