पाक की ओर से जम्मू-कश्मीर में इस्तेमाल किए जा रहे ‘कोडवर्ड’ का अजीत डोभाल ने बताया मतलब

  • डोभाल ने बताया कि भारत-पाकिस्तान की सीमा से 20 किलोमीटर की दूरी पर कम्युनिकेश टावर लगे हुए हैं जिनसे पाकिस्तान की ओर से संदेश भेजे जा रहे हैं. हमने कुछ संदेश सुने हैं जिनमें कहा जा रहा है, सेब से भरे इतने ट्रक कैसे भेजे जा रहे हैं, क्या उनको रोक नहीं सकते. क्या हम तुमको चूड़ियां भेजें? अजीत डोभाल ने पाकिस्तान की ओर से कोडवर्ड में की जा रही बातों को मतलब बताया कि वे सामना अपने गुर्गों से हथियार और लोजेस्टिक के इस्तेमाल की बात कर रहे हैं| 

नई दिल्ली : राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर का 92.5 फीसदी भूभाग पाबंदियों से मुक्त कर दिया गया है. वहीं राजनीतिक दलों को नेताओं को नजरबंद रखने के मामले में उन्होंने कहा कि किसी भी घटना को होने से रोकना के लिए उनको हिरासत में रखा गया है क्योंकि भीड़ इकट्ठा होने पर आतंकवादी इसका फायदा उठा सकते हैं. उन्होंने कहा कि किसी भी नेता को आपराधिक या देशद्रोह का मामला नहीं है. उनको हिरासत में सिर्फ इसलिए रखा गया है ताकि राज्य में लोकतंत्र लागू होने का माहौल बन सके और विश्वास है कि ऐसा बहुत जल्द हो जाएगा|

Also Read : JNU की पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष शेहला रशीद पर देशद्रोह का केस दर्ज, जानिए पूरा मामला

कोर्ट का दरवाजा खटखटका सकते हैं नेता

उन्होंने कहा कि जो कुछ भी किया गया कानून के मुताबिक है और नेता अपनी हिरासत के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटका सकते हैं. अजीत डोभाल ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में हालात जितना उन्होंने सोचा था उससे कहीं ज्यादा बेहतर हैं सिवाए 6 अगस्त वाली घटना को छोड़कर जिसमें एक लड़के की मौत गई. डोभाल ने यह भी कहा कि उसकी मौत गोली लगने से नहीं हुई है|


डोभाल ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट कहती है कि उसकी लड़के की मौत किसी कठोर चीज के लगने से हुई है. इतने दिनों में सिर्फ एक ही घटना हुई है जो आतंकवाद से प्रभावित है. NSA ने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी पाबंदियां हट जाएं लेकिन यह पाकिस्तान की हरकतों पर निर्भर करेगा. अगर पाकिस्तान से ठीक से व्यवहार करे तो घुसपैठ नहीं होगी और वह अपने टावरों से आतंकवादियों को सिग्नल को भेजना बंद कर दे तो सभी पाबंदियां हटा ली जाएंगी|

क्या हम तुमको चूड़ियां भेजें ?

डोभाल ने बताया कि भारत-पाकिस्तान की सीमा से 20 किलोमीटर की दूरी पर कम्युनिकेश टावर लगे हुए हैं जिनसे पाकिस्तान की ओर से संदेश भेजे जा रहे हैं. हमने कुछ संदेश सुने हैं जिनमें कहा जा रहा है, सेब से भरे इतने ट्रक कैसे भेजे जा रहे हैं, क्या उनको रोक नहीं सकते. क्या हम तुमको चूड़ियां भेजें? अजीत डोभाल ने पाकिस्तान की ओर से कोडवर्ड में की जा रही बातों को मतलब बताया कि वे सामना अपने गुर्गों से हथियार और लोजेस्टिक के इस्तेमाल की बात कर रहे हैं| 


अजीत डोभाल ने बताया कि श्रीनगर से हर रोज 750 ट्रकों की आवाजाही हो रही है. कल दो आतंकवादी यहां के मशहूर फल विक्रेता हमीदुल्लाह को निशाना बनाना चाहते थे. लेकिन वह उनको पा नहीं सके क्यों कि हमीदुल्लाह नमाज पढ़ने चले गए थे, लेकिन उन आतंकवादियों ने हमीदुल्लाह की दुकान में काम करने वाले दो लोगों को जबरदस्ती लेकर उनके घर सोपोर पहुंच गए जहां उन आतकंवादियों ने ढाई साल की बेटी आसम जान और और बेटे मोहम्मद अरशद को गोली मार दी. दोनों आतंकी पाकिस्तानी थे और उनके हाथ में पिस्टल थी. वे पंजाबी बोल रहे थे. घटना को अंजाम देने के बाद फरार हो गए। इसके अलावा एक और घटना जिसमें एक दुकानदार को गोली मार दी गई क्योंकि, वह दुकान खोलने की कोशिश में लगा था।

Also Read : डीएल-आरसी नहीं दिखाने पर तत्काल चालान नहीं काट सकती ट्रैफिक पुलिस, जानिए कानून

प्रोपेगंडा फैलाना चाहता था पाकिस्तान

डोभाल ने कहा पाकिस्तान यहां ऐसे हालात पैदा करना चाहता है ताकि वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय को बता सके कि यहां पर अशांति है. पाकिस्तान यहां प्रोपेगंडा फैलाना चाहता था और कुछ अनभिज्ञ लोग एक दो घटनाओं को आम लोगों की राय बता रहे हैं. उन्होंने यह भी बताया कि घायल बच्ची को एम्स में भर्ती करने के निर्देश दिए गए हैं। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से राज्य में कई तरह के पाबंदियां लगा दी गई थीं और  उसके बाद कई नेताओं को नजरबंद भी कर दिया गया, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, मेहबूबा मुफ्ती और फारुख अब्दुल्ला शामिल हैं, ये सभी नेता अभी तक नज़रबंदी में ही हैं।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments