दो समुदाय के बीच टकराव को लेकर पुरानी दिल्ली में तनाव

Written by – Himanshi Sharma

नई दिल्ली : एक मंदिर के बाहर हिंदू और मुस्लिमों के बीच झड़प और तोड़फोड़ के बाद मध्य दिल्ली का एक हिस्सा तनावपूर्ण बना हुआ है। पुरानी दिल्ली के हौज खास इलाके में हिंसा के कारण कई दिनों से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है मामले में पुलिस ने एक नाबालिग सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। यह विवाद पार्किंग की जगह को लेकर नोकझोक के बाद शुरू हुआ था।
फ़िलहाल क्षेत्र में 1000 से अधिक सुरक्षाकर्मी और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल तैनात किए गए हैं।

Also Read : झारखंड में जबरन जय श्रीराम बोलने को कहा तो बुजुर्ग ने सुना दी रामायण की चौपाई, देखिए फिर क्या हुआ ?


रविवार से बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ है, दुकानें बंद हो गई हैं और स्थानीय लोगों ने शांति मार्च निकाला है।दिल्ली पुलिस ने इस मामले में तीन प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की हैं – पार्किंग झगड़े को लेकरदोनों व्यक्तियों की ओर से दो एफआईआर। तीसरी रिपोर्ट मंदिर में हुए उपद्रव को लेकर दर्ज की गई है ।

वास्तव में वहां क्या हुआ था?

रविवार की रात लगभग 10.30 बजे, फल विक्रेता, संजीव गुप्ता, एक आस
मोहम्मद के साथ बहस में पड़ गए, जिसने उनके घर के बाहर वाहन खड़ा कर दिया था। आस मोहम्मद उस वक़्त वहां से चला गया , लेकिन कुछ देर बाद अधिक लोगों के साथ लौट आया और संजीव गुप्ता के घर पर हमला कर दिया।


संजीव गुप्ता ने पुलिस को सूचित किया और उन्हें और आस मोहम्मद दोनों को पूछताछ के लिए
बुलाया गया। जल्द ही, मोहम्मद की रिहाई की मांग को लेकर हौज ख़ास थाने के बाहर भीड़
जमा हो गई। बेकाबू भीड़ ने क्षेत्र के एक मंदिर पर हमला किया जहां उन्होंने
कुछ मूर्तियों को तोड़ दिया।

प्रत्यक्षदर्शी रिंकी का कथन है की “हमने देखा कि अंधेरे में मंदिर में कई लोग थे। कुछ के पास
पिस्तौल थे और अन्य के पास चाकू जैसे हथियार थे। हमने पुलिस को फोन किया। लेकिन
जब तक वे आते, तब तक उपद्रवियों ने मूर्तियों को तोड़ दिया और आग लगा दी। उन्होंने
लगभग आधी मूर्तियों को तोड़ दिया”.

सोमवार को, दोनों समुदायों के समूहों ने विरोध प्रदर्शन किया कर कार्रवाई की मांग की। स्थानीय लोगों का दावा है कि बाहरी लोगों ने मंदिर में तोड़फोड़ की थी। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में तीन प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज की है पार्किंग झगड़े को लेकर दोनों व्यक्तियों की दो क्रॉस एफआईआर। तीसरा मंदिर में हुई बर्बरता से सम्बंधित। तीसरे मामले के सिलसिले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है इनपर दंगा करने का आरोप लगाया गया है। पुलिस ने, हालांकि, उनके बारे में विवरण देने से इनकार कर दिया। किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए क्षेत्र में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

Also Read : 145 रिटायर्ड अफसरों ने चिट्ठी लिख लोकसभा चुनाव में चुनाव आयोग की भूमिका पर खड़े किये सवाल


चांदनी चौक से लोकसभा सांसद केंद्रीय मंत्री डॉ० हर्षवर्धन ने हाल ही में इस क्षेत्र का दौरा भी किया है। डॉ० हर्षवर्धन ने कहा “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और दर्दनाक है। मंदिर के अंदर इस तरह की चीजें असभ्य हैं,मुझे बताया गया है कि पुलिस पहले से ही कार्रवाई कर रही है। दोषियों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा और दंडित किया जाएगा। मैं लोगों से सद्भाव बनाए रखने की अपील करता
हूं,” उन्होंने कहा। “दुर्गा मंदिर के विध्वंस की घटना और पुरानी दिल्ली में अराजक तत्वों
द्वारा हिंसा निंदनीय है।” दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए।

यहाँ आपको बता दें की चावड़ी बाज़ार के पास लाल कुआं इलाके में रविवार को स्कूटर खड़ा करने को लेकर दो व्यक्तियों के बीच हुए झगड़े से विवाद शुरु हुआ और फिर पास के मंदिर में तोड़फोड़ तक पहुंच गया था.  इस प्रकरण में दिल्ली पुलिस की धीमी कार्यवाही पर नाराजगी जताते हुए ग्रह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक को तलब किया है. वहीं इस मामले में अबतक 9 लोगो की गिरफ़्तारी की जा चुकी है। इसी बीच एक अधिवक्ता ने दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर इस मामले में एसआईटी जांच करने की मांग की है।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments