शिवसेना ने की भारत में बुर्के पर बैन लगाने की मांग, साध्वी प्रज्ञा ने किया समर्थन, जानें क्या है मामला

वहीं शिवसेना के बुर्के पर बैन लगाने वाली मांग पर बीजेपी ने आपत्ति जताते हुए विरोध किया है।

नई दिल्ली : केंद्र में राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देशहित में बुर्का और नकाब पर बैन लगाने की मांग की है। शिवसेना ने यह मांग तब की है जब प्रधानमंत्री मोदी अयोध्या में रैली करने वाले हैं।

Also Read : भाजपा की शिकायत पर केजरीवाल की पत्नी के खिलाफ केस दर्ज, जानें क्या है मामला

शिवसेना ने ईस्टर के मौके पर हुए श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट के मद्देनजर यह मांग की है कि देश में बुर्के पर बैन लगाया जाए। शिवसेना ने केंद्र सरकार की ट्रिपल तलाक मुद्दे पर तारीफ की लेकिन यह भी अपील की कि बुर्के और नकाब पर बैन लगाए जाएं। बीजेपी ने शिवसेना की इस मांग का विरोध किया है।

श्रीलंका विस्फोट के बाद हुई मौत के आकंड़े को बढ़ाकर बताते हुए शिवसेना ने कहा कि इस्लामिक आतंकवाद की वजह से श्रीलंका में 400 लोगों की बलि चढ़ गई। लिट्टे आतंकवाद से श्रीलंका उबरा तो इस्लामिक आतंकवाद हावी हो गया। साथ ही शिवसेना ने श्रीलंका के साथ भारत के आध्यात्मिक रिश्ते का भी जिक्र किया है।

साध्वी प्रज्ञा ने किया समर्थन?

भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ने भी शिवसेना की इस मांग का समर्थन किया है।

BJP ने जताया विरोध ?

वहीं शिवसेना के बुर्के पर बैन लगाने वाली मांग पर बीजेपी ने आपत्ति जताते हुए विरोध किया है। बीजेपी नेता और प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा ने इस मांग का विरोध करते हुए कहा कि भारत में बुर्के पर बैन की कोई जरूरत नहीं है। जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा, ‘मोदी सरकार की अगुआई में हम आतंकवाद को रोकने में सफल रहे। किसी प्रकार के बैन लगाने की मेरे हिसाब से कोई आवश्यकता नहीं है। मोदी हैं तो देश सुरक्षित है।’

बीजेपी के अलावा एनडीए के ही एक अन्य सहयोगी रामदास आठवले ने शिवसेना की मांग को खारिज किया है। आठवले ने कहा कि यह परंपरा का हिस्सा है। मुस्लिम महिलाओं को बुर्का पहनने का हक है, इस पर प्रतिबंध नहीं लगना चाहिए।

‘सामना’ में क्या लिखा है?

‘प्रधानमंत्री मोदी से सवाल, रावण की लंका में हुआ, राम की अयोध्या में कब होगा?’ शीर्षक से लिखे संपादकीय में शिवसेना ने मांग की है कि श्रीलंका की तरह ही भारत में भी बुर्का पर प्रतिबंध लगे। संपादकीय में लिखा गया है, ‘बम विस्फोट के बाद श्रीलंका में बुर्का और नकाब सिहत चेहरा ढकनेवाली हर चीज पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए यह निर्णय लिया गया है…प्रधानमंत्री मोदी को भी श्रीलंका के राष्ट्रपति के कदमों पर कदम रखते हुए हिंदुस्तान में बुर्का और उसी तरह नकाब बंदी करें, ऐसी मांग राष्ट्रहित के लिए कर रहे हैं।’

शिवसेना ने संपादकीय में लिखा है, ‘फ्रांस में भी आतंकवादी हमला होते ही वहां की सरकार ने बुर्काबंदी की। न्यू जीलैंड, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन में भी यही हुआ। फिर इस बारे में हिंदुस्तान पीछे क्यों?…रावण की लंका में जो हुआ वो राम की अयोध्या में कब होगा? प्रधानमंत्री मोदी आज अयोध्या निकले हैं, इसीलिए यह सवाल।’ बता दें कि ईस्टर के दिन श्रीलंका के अलग-अलग शहरों में चर्चों और होटलों में हुए 8 आतंकी हमलों में 256 लोगों की मौत हो गई, जबकि करीब 500 अन्य घायल हो गए। आतंकी संगठन आईएसआईएस ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments