राहुल बोले अगर मेरे खिलाफ लिखने वाले पत्रकारों पर एक्शन हुआ तो खाली हो जायेंगे मीडिया संस्थान

योगी सरकार द्वारा पत्रकारों पर की गई कार्रवाई के बाद मीडिया और यूपी सरकार आमने सामने आ गई है. सोशल मीडिया पर भी लोग पत्रकार के समर्थन में लिख रहे थे. मामला सर्वोच्च अदालत की चौखट तक जा पहुंचा. शीर्ष अदालत ने पत्रकार प्रशांत कन्नोजिया को राहत देते हुए उसकी रिहाई के आदेश दे दिए. मौका गनीमत देख कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इस मामले में कूद पड़े और तंज करते हुए ट्वीट कर डाला.


Also Read : नीति आयोग ने बेचने के लिए तैयार की 50 सरकारी सम्पत्तियों की सूची, जानें क्या है पूरा मामला

ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा कि अगर हर पत्रकार जो मेरे खिलाफ फर्जी आरोप लगाकर, आरएसएस और बीजेपी का प्रायोजित एजेंडा चलाते हैं, अगर उन्हें जेल में डाल दिया गया तो न्यूज़ पेपर और न्यूज़ चैनलों में स्टाफ की कमी पड़ जाएगी. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मूर्खतापूर्ण रवैया अपना रहे हैं, गिरफ्तार किए गए पत्रकारों को तुरंत रिहा करने की जरूरत है


बता दें कि कानपुर की रहने वाली एक युवती ने सीएम आवास के बाहर पुहंच कर ये दावा किया था कि वो सीएम योगी से प्रेम करती है और वो उनसे वीडियो कॉल पर बात भी करती है.

Also Read : बंगाल में प्रशांत किशोर के सहारे BJP से टक्कर लेंगी ममता दीदी

इसके बाद कनौजिया ने उस युवती का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि इश्क छुपता नहीं छुपाने से योगी जी. इसके बाद यूपी पुलिस ने सीएम की छवि खराब करने के आरोप में प्रशांत कनौजिया सहित तीन पत्रकारों को गिरफ्तार कर लिया था.

Ace News से जुड़ें और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments