प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी पर खतरा? बीजेपी ने उतारा ‘डमी’ कैंडिडेट

 FIR against  candidate Pragya Singh Thakur:  पुलिस द्वारा भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के एक दिन बाद भोपाल के सांसद आलोक संजर ने डमी’ उम्मीदवार के रूप में मंगलवार को अपना नामांकन दाखिल किया। नियमों के अनुसार अगर चुनाव आयोग किसी पार्टी के पहले उम्मीदवार का नामांकन अगर चुनाव आयोग द्वारा खारिज कर देता है तो ऐसी स्थिति में नियमों के अनुसार पार्टी के डमी उम्मीदवार को पार्टी सिंबल मिल जाता है।

प्रज्ञा पर चुनाव आयोग के निर्देश पर एफआईआर दर्ज की गई है। प्रज्ञा ने टीवी 9 को एक साक्षात्कार में 1992 में हुए बाबरी मस्जिद के विध्वंस को लेकर विवादित बयान दिया था। इतना ही नहीं महाराष्ट्र के पूर्व एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे पर उनकी विवादास्पद टिप्पणियों के बारे में एक और रिपोर्ट चुनाव पैनल को भेजी गई है। बता दें सोमवार को प्रज्ञा ने अपना नामांकन भरा था। उन्होंने मंगलवार को एक रोड शो का नेतृत्व किया, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पार्टी कार्यकर्ताओं और कुछ धार्मिक कार्यकर्त्ता शामिल हुए थे। कागजी कार्रवाई पूरी करने के तुरंत बाद, सांसद संजर ने डमी उम्मीदवार के रूप में अपना नामांकन दाखिल किया। संजर ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि डमी उम्मीदवार के रूप में उनका नामांकन सिर्फ एहतियात के तौर पर लिया गया था।

उन्होंने दावा किया कि ऐसा ही कुछ तब किया गया था जब उन्होंने 2014 में अपना नामांकन दाखिल किया था, लेकिन विस्तार से पूछे जाने पर उन्हें डमी उम्मीदवार का नाम याद नहीं था। रोड-शो के दौरान “प्रज्ञा दीदी संत है डिग्गी (दिग्विजय सिंह) तेरा अंत है,” (प्रज्ञा दीदी एक संत हैं, वे डिग्गी के लिए कयामत बिखेरेंगी) ” हिंदुस्तान में रहना होगा, वंदे मातरम कहना होगा और “आधा नहीं पूरी कश्मीर हमरा है के नारे लगाए गए। 49 वर्षीय ठाकुर को स्थानीय भाजपा नेताओं के साथ एक खुले वाहन में बैठाया गया, रोडशो ने पुराने भोपाल से होते हुए गया जो सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील हैं और कलेक्ट्रेट में समाप्त हुआ। पुलिस और प्रतिभागियों के बीच थोड़ी सी हाथापाई के बाद, केवल चयनित लोगों को ही रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय में जाने की अनुमति दी गई थी।

Source: Jansatta

Facebook Comments