Karnataka: शुक्रवार को शपथ ले सकते हैं येदियुरप्पा, RSS दफ्तर पहुंचे तैयारी के बीच

Karnataka: भाजपा विधायक मधु स्वामी ने मीडिया से कहा कि केंद्रीय संसदीय बोर्ड फैसला लेगा कि आगे क्या होना है. विधायक दल का नेता चुनने के लिए उन्हें हम विधायकों को अधिकृत करना होगा. संसदीय बोर्ड इस पर विचार-विमर्श कर रहा है. बैठक में पर्यवेक्षक भी शामिल होंगे. हम उनका इंतजार कर रहे हैं. साथ ही हम दिल्ली से सिग्नल मिलने का इंतजार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि मुझे नहीं लग रहा कि येदियुरप्पा दिल्ली जा रहे हैं, हालांकि वो दिल्ली से लागातार टच में हैं.

Also Read : मायावती के इस सपने को पूरा करेंगे सीएम योगी, बजट में किया एलान, देखिये


BSP विधायक करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस!

BSP विधायक एन महेश को पार्टी से निकाल दिया गया है. इस पर उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि मुझे पार्टी से क्यों निकाला गया है. मुझे मतदान से पहले परहेज करने के लिए कहा गया था. मुझे बाद में ट्वीट के बारे में बताया गया था. मुझे BSP से वोट देने के लिए कोई सूचना नहीं मिली. मैं बेंगलुरु में नहीं था इसलिए मुझे ट्वीट के बारे में पता नहीं था. महेश ने बताया कि वो दोपहर 1 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे.

Karnataka कांग्रेस के नेता डीके शिवकुमार ने मीडिया ने बातचीत में कहा कि JDS के साथ गठबंधन पर अफसोस नहीं है, हमारा फैसला सही था. उन्होंने कहा, ‘बागी विधायक इतनी जल्दी वापस नहीं आएंगे. जब तक भाजपा फ्लोर टेस्ट पास नहीं करेगी तब तक भाजपा उन्हें मुंबई में रखेगी. अभी वे लोनावाला में हैं.’ साथ ही उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि हाई कमान मुझे क्या भूमिका देगा. मैं पार्टी के लिए किसी भी भूमिका को निभाने के लिए तैयार हूं, अगर पार्टी मुझे विपक्ष का नेता चुनती है तो भी मुझे कोई परेशानी नहीं होगी.


Also Read : Video: ओवैसी ने संसद में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह से कहा डर क्यों रहे हो मुझसे, देखिए वीडियो

अमित शाह से मिलेंगे येदियुरप्पा!

भाजपा सूत्रों के मुताबिक, बीएस येदियुरप्पा कुछ देर में राज्यपाल से मिलेंगे. बीएस येदियुरप्पा आज शाम भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मिलने दिल्ली जा सकते हैं. 

Karnataka की राजनीति में भाजपा का सबसे बड़ा चेहरा बीएस येदियुरप्पा 3 बार सूबे के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. तालुक अध्यक्ष से अपना सियासी सफर शुरू करते हुए येदियुरप्पा ने राज्य की सबसे बड़ी सियासी कुर्सी तक पहुंचे. वह 7 बार विधायक रहे और एक बार लोकसभा सांसद भी चुने गए. इसके अलावा वह भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी रह चुके हैं. भाजपा के सबसे विवादित नेता होने के बावजूद Karnataka में वह पार्टी का सबसे भरोसेमंद चेहरा हैं.

बागी विधायकों पर लटकी तलवार!

मौजूदा घटनाक्रम को देखते हुए Karnataka में कमल का खिलना तय लग रहा है. लेकिन सरकार गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले बागी विधायकों पर अयोग्य ठहराए जाने की तलवार लटक रही है. व्हिप के बावजूद वोट ना करने वाले BSP विधायक महेश पार्टी से निलंबित हो चुके हैं लेकिन कांग्रेस-JDS के पंद्रह बागियों ने स्पीकर से जवाब दाखिल करने के लिए 4 हफ्ते का वक्त मांगा है. उधर. JDS ने भी आज अपने विधायकों की बैठक बुलाई है. कुल मिलाकर बेंगलुरु में आज का दिन भी घटनाक्रम से भरपूर से रहने वाला है.


प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया, एक दिन भाजपा को यह पता चलेगा कि सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता, हर किसी को त्रस्त नहीं किया जा सकता और हर झूठ आखिरकार बेनकाब होता है.

Also Read : मिशन 2022 : क्या सोनभद्र के रास्‍ते UP में CM योगी का विकल्‍प बनेंगी प्रियंका गांधी ?, देखिये

राहुल बोले- Karnataka की जनता हार गई !

राहुल ने ट्वीट कर कहा, ‘अपने पहले दिन से ही कांग्रेस-JDS सरकार भीतर और बाहर के उन निहित स्वार्थ वाले लोगों के निशाने पर आ गई थी जिन्होंने इस गठबंधन को सत्ता के अपने रास्ते के लिए खतरा और रुकावट के तौर पर देखा. उनके लालच की आज जीत हो गई. लोकतंत्र, ईमानदारी और Karnataka की जनता हार गई.  बागी विधायक मुंबई मेंज्यादातर बागी विधायक अभी भी मुंबई के एक होटल में टिके हुए हैं. तमाम कोशिशों के बावजूद कांग्रेस और JDS इन बागी विधायकों को अपने खेमे में लाने में नाकाम रही. कांग्रेस पार्टी ने इसे लालच की जीत बताया है.

Karnataka का राजनीतिक संकट एक जुलाई को कांग्रेस के बागी विधायक आनंद सिंह के इस्तीफे से शुरू हुआ था. 5 दिन बाद 6 जुलाई को JDS के 3 और कांग्रेस के 10 विधायकों समेत 13 और विधायकों ने इस्तीफा दे दिया. बाद में सुधाकर और नागराज के इस्तीफा से बाकी विधायकों की संख्या 16 पहुंच गई.


केंद्रीय नेता भी बैठक में मौजूद रहेंगे!

आज होने वाली भाजपा विधायक दल की आज बैठक में मुख्यमंत्री का चुनाव किया जाएगा. बैठक के पर्यवेक्षक के तौर पर पार्टी के केंद्रीय नेता भी मौजूद रहेंगे. सूत्रों के मुताबिक CM पद की रेस में येदियुरप्पा सबसे आगे हैं लेकिन कुछ अटकलों में कहा जा रहा है कि पार्टी आलाकमान येदियुरप्पा को CM बनाने के पक्ष में नहीं है. विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया जाएगा. सूत्रों के मुताबित नई सरकार का शपथ ग्रहण शुक्रवार को हो सकता है.  

Also Read : मोदी सरकार 2.0 : ट्रेनें होंगी हाईस्पीड, आधे समय मे पूरा होगा सफर

भाजपा ने बुलाई विधायक दल की बैठक!

गठबंधन सरकार कुल 6 मतों से पीछे रह गई और विश्वास मत जीतने में कामयाब नहीं हो सकी. इसके साथ ही भाजपा ने कहा है कि वह Karnataka में सरकार बनाने का दावा पेश करेगी. बुधवार को भाजपा ने विधायक दल की बैठक बुलाई है. येदियुरप्पा ने कहा कि हमें जो नैतिक समर्थन मिला उसके लिए मैं प्रधानमंत्री, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और जेपी नड्डा को धन्यवाद करता हूं.


99 के फेर में फंसा गठबंधन!

मंगलवार शाम विश्वास मत में कुमारस्वामी की सरकार 6 मतों के अंतर से हार गई. सरकार के पक्ष में 99 मत पड़े जबकि विरोध में 105. वोटिंग के समय 20 विधायक गायब रहे. विश्वास मत हारने के तुरंत बाद राजभवन जाकर कुमारस्वामी ने इस्तीफा सौंप दिया. बाद में उन्होंने कहा कि वो अब राहत महसूस कर रहे हैं.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments