आपदा रोधी बुनियादी ढांचे के बारे में अंतरराष्‍ट्रीय कार्यशाला कल से शुरू

आपदा रोधी बुनियादी ढांचे पर अंतरराष्‍ट्रीय कार्यशाला का कल से शुभारंभ होगा। इस दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन राष्‍ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा संयुक्‍त राष्‍ट्र आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण कार्यालय (यूएनआईएसडीआर) के साथ संयोजन पर वैश्विक आयोग, संयुक्‍त राष्‍ट्र विकास कार्यक्रम और विश्‍व बैंक की भागीदारी में किया जा रहा है।

इस कार्यशाला का उद्देश्‍य प्रमुख बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में आपदा जोखिम प्रबंधन की अच्‍छी प्रक्रियाओं की पहचान करना, परिवहन, ऊर्जा, दूरसंचार और जल (डीआरआई) के बारे में सहयोगात्‍मक विशेष क्षेत्रों और तरीकों की पहचान करना है, अगले तीन वर्षों के लिए बोधात्‍मक रोल-आउट योजना के रूप में आपदा रोधी बुनियादी ढांचे के लिए सहयोग की व्‍यापक रूपरेखा और सह-सृजन के बारे में विचार-विमर्श करना, साझा हितों के क्षेत्रों में काम करने के लिए सदस्‍यों के लिए मंच तैयार करना और विशेष प्रतिबद्धताएं तैयार करना शामिल है।

इसके उद्देश्‍यों में विश्‍व के विभिन्‍न हिस्‍सों में स्थित देशों, बहुपक्षीय विकास बैंकों, संयुक्‍त राष्‍ट्र एजेंसियों, शिक्षाविदों और अनुसंधान संस्‍थानों, निजी क्षेत्र, शैक्षिक और नीति, विचार समूहों (थींक टेंक) को बड़ी बुनियादी ढांचा प्रणालियों (परिवहन, दूरसंचार, ऊर्जा, जल) में आपदा रोधन अर्जित करने के लिए नीतियों प्रक्रियाओं को प्रोत्‍साहित करने के बारे में विचार विमर्श और सहयोग करने के लिए एक मंच पर लाना भी शामिल है।

विभिन्‍न अंतरराष्‍ट्रीय समझौतों में आपदा रोधी बुनियादी ढांचे में निवेश के दीर्घकालीन लाभों के महत्‍व को दोहराया गया है। आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण के सेन्‍दाई फ्रेमवर्क (एसएफडीआरआर) 2015,2030, 2015 विकास एजेंडा के बाद पहला प्रमुख समझौता है। इसने आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण में लचीलेपन के लिए निवेश करने और आपदा जोखिम कम करने की दिशा में कार्रवाई का प्राथमिकता के रूप में पुनर्गठन करने में बेह‍तर निर्माण करने की पहचान की गई है। इसी प्रकार सतत् विकास लक्ष्‍यों (एसडीजी) के 9वें लक्ष्‍य में आर्थिक प्रगति और विकास की महत्‍वपूर्ण चालक के रूप में आपदा रोधी बुनियादी ढांचे को मान्‍यता दी गई है। बुनियादी ढांचा हानियों को कम करने के लिए आपदा रोधी बुनियादी ढांचा, विभिन्‍न आपदाओं के कारण होने वाली मृत्‍युदर, प्रभावित व्‍यक्तियों की संख्‍या और आर्थिक हानियों को कम करने से संबंधित लक्ष्‍यों को हासिल करने में भी मदद करेगा।

आपदा रोधी बुनियादी ढांचे के बारे में पहली अंतरराष्‍ट्रीय कार्यशाला जनवरी 2018 में आयोजित की गई थी। यह कार्यशाला आपदा रोधी बुनियादी ढांचे की स्‍थापना करने के महत्‍वपूर्ण लक्ष्‍य के रूप में आईडब्‍ल्‍यूडीआरआई-2018 में सामने आये कुछ विचारों को आगे बढ़ाने में मदद करेगी। सीडीआरआई की एक ज्ञान विनिमय और क्षमता विकास भागीदारी के रूप में कल्‍पना की गई है। भारत में वर्ष 2016 में नई दिल्‍ली में आपदा जोखिम न्‍यूनीकरण पर आयोजित एशियाई मंत्री स्‍तरीय सम्‍मेलन के तुरंत बाद सीडीआरआई के गठन की घोषणा की थी। कार्यशाला और प्रस्‍तावित सहयोग के बारे में अधिक जानकारी के लिए कार्यशाला वेबसाइट – https://resilientinfra.org/iwdri/about.php. को देखे।

Facebook Comments