चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों से मिलने पहुंचे डॉ. कफील खान, लगाया मुफ्त जांच कैंप, देखिये

गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज के निलंबित डॉक्टर कफील खान (Dr Kafeel Khan) एक बार फिर चर्चा में हैं. सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद डॉक्टर कफील इन दिनों बिहार में चमकी बुखार से पीड़ित बच्चों और उनके परिजनों से मिल रहे हैं. डॉक्टर कफील खान मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल पहुंचे और पीआईसीयू में भर्ती बच्चों को देखा और उनके परिजनों से बातचीत की.


Also Read : बिहार में इन्सेफ्लाइटिस से मौतों के बीच गोवा में पार्टी कर रहे थे रामविलास पासवान के बेटे चिराग, कांग्रेस नेता राधिका खेड़ा ने तस्वीरें शेयर की वायरल

उन्होंने कहा कि सरकार को तुरंत 200 बेड वाले आईसीयू की व्यवस्था करनी चाहिए. उन्होंने अस्पताल के सुपरीटेंडेंट और बच्चा विभाग के एचओडी से भी मुलाकात की और चमकी बुखार की रोकथाम के विषय पर चर्चा की. इस दौरान उन्होंने एक मेडिकल कैंप भी लगाया.

कैंप में तकरीबन 300 बच्चों की जांच करके उन्हें मुफ्त में दवाइयां बांटी गई. कैंप में डॉक्टर कफील खान के अलावा डॉक्टर अरशद अंजुम, डॉक्टर एन आजम और डॉक्टर आशीष कुमार मौजूद थे.

बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की हुई मौ‘तों के मामले में डॉक्टर कफील खान (Dr Kafeel Khan) को दोषी बताते हुए योगी सरकार ने उन्हें निलंबित कर दिया था.


इसके बाद उन्हें जेल भी जाना पड़ा था. लंबी कानूनी लड़ाई के बाद देश की सर्वोच्य अदालत ने उन्हें राहत का आदेश तो दे दिया है मगर यूपी सरकार ने उन्हें कोई राहत नहीं दी है.

Also Read : नहीं कहूंगा वन्देमातरम, यह इस्लाम के खिलाफ है : सांसद शफ़ीक़ुर्रहमान बर्क़, देखें वीडियो

कुछ दिन पहले ही उन्होंने इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से अपने साथ हो रही नाइंसाफी के खिलाफ आवाज उठाने की गुजारिश की है. आईएमए से उन्होंने कहा कि मैं भी तुम्हारी बिरादरी का हूं, मेरा भी एक परिवार है, प्लीज मेरे लिए भी एक बयान जारी कर दें.

डॉक्टर कफील ने लिखा कि हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी न तो मेरा बकाया भुगतान अदा किया गया और न ही मेरा निलंबन रद्द किया गया.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments