शेयर बाजार में हुई भारी गिरावट, सेंसेक्स 770 और निफ्टी 225 अंक लुढ़का, देखिये

Stock Market News: भारतीय शेयर बाजार के लिए सप्‍ताह का पहला कारोबारी दिन बेहद निराश करने वाला रहा है. दिन में कारोबार के दौरान बाजार में भारी बिकवाली देखने को मिली. इस माहौल में सेंसेक्स करीब 770 अंक टूटकर 36600 के नीचे 36,562.91 के स्‍तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी में 11 महीनों की सबसे बड़ी इंट्राडे गिरावट दर्ज हुई है और यह 2 फीसदी से अधिक लुढ़क गया. कारोबार के अंत में निफ्टी 225 अंक गिरकर 10,798  के स्तर पर रहा.

Also Read: मोहन भागवत से क्यों मिले मौलाना अरशद मदनी ? बताई बड़ी वजह, रखा ये प्रस्ताव, देखिए


Stock Market News: निवेशकों को 2.80 लाख करोड़ का नुकसान!

Stock Market News: मंगलवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट की वजह से निवेशकों को बड़ा नुकसान हुआ. दरअसल, आखिरी कारोबारी दिन शुक्रवार को BSE पर लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 1,40,98,451.66 करोड़ रुपये था, जो मंगलवार को 1,39,68,329.67 करोड़ रुपये हो गया. इस लिहाज से मार्केट कैप 2.80 लाख करोड़ रुपये कम हुआ है. यानि यह निवेशकों का नुकसान है.

1. बैंकिंग सेक्‍टर में निराशा!

बीते शुक्रवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक साथ 10 बैंकों के विलय का ऐलान किया है. सरकार के विलय के फैसले से बैंकों के शेयर में निराशा का माहौल देखने को मिल रहा है. कारोबार के अंत में इलाहाबाद बैंक के शेयर 5.67 फीसदी लुढ़का. वहीं PNB में 8.55 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई. जबकि यूनियन बैंक 9.08 फीसदी, ओरियंट बैंक 9.66 फीसदी और केनरा बैंक करीब 11 फीसदी लुढ़क गया.


2. GDP में बड़ी गिरावट!

शेयर बाजार में गिरावट की एक बड़ी वजह GDP के आंकड़े हैं. दरअसल, इस फाइनेंशियल ईयर के पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में GDP की दर 5.8 फीसदी से घटकर 5 फीसदी हो गई है. सालाना आधार पर तुलना करें तो करीब 3 फीसदी की गिरावट है. एक साल पहले इसी तिमाही में GDP की दर 8 फीसदी थी. वहीं मोदी सरकार के कार्यकाल में यह सबसे बड़ी गिरावट है. इससे पहले UPA सरकार के दौरान 2012-13 की पहली तिमाही में GDP के आंकड़े 4.9 फीसदी के निचले स्‍तर पर थे. यही नहीं, गुड्स एंड सर्विस टैक्स कलेक्शन में भी आई गिरावट ने भी निवेशकों को सोचने पर मजबूर किया है. बता दें कि अगस्त महीने में कुल 98,203 करोड़ रुपये का GST कलेक्शन हुआ है.

3. कोर सेक्‍टर के सुस्‍त आंकड़े!

भारतीय शेयर बाजार को कोर सेक्‍टर के निगेटिव आंकड़ों का भी नुकसान हुआ है. जुलाई महीने में 8 कोर सेक्‍टर्स की ग्रोथ घटकर 2.1 फीसदी पर आ गई है. जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यानी जुलाई 2018 में यह 7.3 फीसदी थी. इससे पहले जून महीने में भी 8 कोर सेक्‍टर्स की ग्रोथ घटकर 0.2 फीसदी पर आ गई थी. बता दें कि इन 8 सेक्‍टर्स में कोयला, क्रूड, ऑयल, नेचुरल गैस, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स, फर्टिलाइजर्स, स्टील, सीमेंट और इलेक्ट्रिसिटी आते हैं. इनकी भारत के कुल इंडस्ट्रियल आउटपुट (औद्योगिक उत्पादन) में करीब 40 फीसद हिस्सेदारी होती है.


Also Read : मुस्लिम देशों के संगठन OIC ने कश्मीर पर लिया बड़ा फैसला,विवाद को दी अंतर्राष्ट्रीय मान्यता, देखिये

4. ऑटो इंडस्‍ट्री में निराशा!

शेयर बाजार में ऑटो सेक्‍टर के ताजा आंकड़ों का भी असर देखने को मिला. दरअसल, अधिकतर ऑटो कंपनियों ने अगस्‍त महीने के आंकड़े जारी कर दिए हैं. ताजा आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में कारों की बिक्री में 29 फीसदी की भारी गिरावट आई है. यह लगातार 10वां महीना है जब ऑटो सेक्‍टर में बिक्री पर ब्रेक‍ लग गया है. मारुति, महिंद्रा, बजाज ऑटो और होंडा समेत अन्‍य कंपनियों की बिक्री में बड़ी गिरावट आई है. ऑटो सेक्‍टर के बिगड़ते हालात की वजह से निवेशकों की चिंता बढ़ गई है.

5. ट्रेड वॉर और रुपये में गिरावट!

रुपये में कमजोरी का नुकसान भारतीय शेयर बाजार को उठाना पड़ रहा है. मंगलवार को शुरुआती कारोबार में 67 पैसे गिरकर 72.09 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया. दरअसल, चीन से आयातित उत्पादों पर अमेरिकी शुल्क रविवार से लागू हो गया है.  इसके जवाब में चीन ने भी अमेरिकी उत्पादों पर जवाबी शुल्क लगाया है. इन परिस्थितियों में चीन की करेंसी युआन 11 साल के निचले स्‍तर पर पहुंच गई है. वहीं इसका असर रुपये पर देखने को मिला. बता दें कि रुपया शुक्रवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 71.42 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.


6. FPI की बिकवाली!

विदेशी निवेशकों ने जुलाई की तरह अगस्त महीने में भी भारी बिकवाली की है. ताजा आंकड़ों के मुताबिक अगस्त में विदेशी निवेशकों ने इंडियन कैपिटल मार्केट से कुल 5,920 करोड़ रुपये की बिकवाली की है. यह आंकड़े ऐसे समय में आए हैं जब सरकार ने FPI पर बढ़ाए गए सरचार्ज को हटा दिया है. जाहिर सी बात है कि सरकार के फैसले के बाद भी विदेशी निवेशकों का भरोसा नहीं बढ़ा है.

Ace News से जुड़े और लगातार अपडेटेड रहने के लिए हमें Facebook पर ज्वॉइन करें, Twitter पर फॉलो करे

Facebook Comments